शनिवार, 30 मई 2009

मैं अपने सभी मित्रों के क्षमा चाहता हूँ

मैं अपने सभी मित्रों के क्षमा चाहता हूँबहुत दिन से अपने ब्लॉग पर भी कुछ नही लिखा और ही दोस्तों केविचारों से अवगत हो पाया हूँ... कुछ दिन से पारिवारिक कार्यों और पढ़ाई में इतना उलझा हुआ हूँ की किसी कोसमय नही दे पाया... पर मैं एकाध दिन में ही आपसे रूबरू होता हूँ.... आशा है आप पहले सा ही स्वागत करेंगे....
आपका अपना
लोकेन्द्र

1 टिप्पणी:

दिगम्बर नासवा ने कहा…

Swagat hai aapkaa...........jaroori kaamon ko pahle niptaaiye